Tuesday, August 23, 2016

fog


Monday, June 20, 2016

enlighten


Saturday, June 4, 2016

मैं कुछ पल ठहरना चाहता हूँ


मैं कुछ पल ठहरना चाहता हूँ

अपने बचपन को फिर लिखना चाहता हूँ

Main, kuch pal thehrna chata hoon,

Apne bachpan ko fir likhna chahta hoon,



मैं कुछ पल ठहरना चाहता हूँ

अपनी जवानी फिर लिखना चाहता हूँ

Main kuch pal thehrna chahta hoon,

Apni jawani ko fir likhna chahta hoon,



मैं कुछ पल ठहरना चाहता हूँ

अपने बुढ़ापे को फिर लिखना चाहता हूँ

Main kuch pal thehrna chahta hoon,

Apne budhape ko fir likhna chahta hoon



रेत के ढेर में अपना घर बनाना चाहता हूँ

अपने बचपन को फिर लिखना चाहता हूँ

Ret ke dher me apna ghar banana chahta hoon,

Apne bachpan ko fir likhna chahta hoon



वही दोस्त, वही चाय की सिसकियाँ

वही मोहल्ले की बेसुमार नादानियां

वही मारपीट

वही दोस्ताना

अपनी जवानी को फिर लखना चाहता हूँ

Wahi dost wahi chai ki siskiyan

Wahi mohalle ki besumar naadaniyan

Wahi maarpit

Wahi dostana

Apni jawani ko fir likhna chahta hoon..











वही छत जहाँ कबूतरों को दाना खिलाया करता था

अपने प्यार से प्यारी बातें किया करता था

उसके हाथों बानी सेवइयां खाया करता था

अपना बुढ़ापा फिर लिखना चाहता हूँ

Wahi chat jjahan kabutaron ko dana diya karta tha

Apne pyaar se pyari baaten kiya karta tha.

Uske hathon bani sewaiyyan khaya karta tha ..

Apna budhapa fir likhna chahta hoon..



अब, जब ढूंढ़ता हूँ इन पन्नों पर

भीगी सी स्याही

तो याद आया....

मैं, क्यों न ठहरा...

Ab, jab dhundhta hoon in panno per

Bhigi se syahi …

To yaad aaya

Main kyun na thehra…



अब... कुछ पल ठहरना चाहता हूँ

सारी कहानियां

फिर  लिखना चाहता हूँ ...

Ab , kuch pal thehrna chahta hoon..

Sari kahaniya

Fir likhna chahta hoon …



© Bhargav

June 4, 2016


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...