Tuesday, March 20, 2012

अब, वो जो गए हैं.... (ab wo jo gaye hain...)

Ankahi baatein aaj sunaiyee di thi,
Ankahe jazbaat aaj dikhayee diye the..
अनकही बातें आज सुनाई दी थी..
अनकहे जज़्बात आज दिखाई दिए थे..
Mausam theher sa gaya tha..
Aasmaan me tare bhi ozhal se ho gaye the..
Chand bhi kahin chup sa gaya tha
मौसम ठहर सा गया था..
आसमान में तारे भी ओज्हल से हो गए थे..
चाँद भी कहीं छुप सा गया था..
Us din subah… kadi dhup me kuch boachare hui thi..
Palkon pe ruke ask se dhuan sa utha tha
Sine me jalan si mehssos hui thi
उस दिन सुबह.. कड़ी धुप में कुछ बोअछारे हुई थी..
पलकों पे रुके अश्क से धुआं सा उठा था .
सिने में जलन सी महसूस हुई थी..
 ***************************************

Har pal kuch nayi baat sunaaiyee deti hai ab..
Har pal mausam kuch naye karvat badal deta hai ab..
हर पल कुछ नयी बातें सुनाई देती है अब..
हर पल मौसम कुछ नए करवट बदल देता है अब..
********************************************

Pyar na jaane kyun itna matlabi sa ho gaya hai, mano ki koi cheej ho..
Ye dil hai ki kuch samjnae ko taiyaar nahin
प्यार न जाने क्यूँ इतना मतलबी सा हो गया है... मानो की कोई चीज हो..
ये दिल भी कुछ समजने को तैयार नहीं
*****************************************************

Khel khel me waqt beet gaya, ab ghadiyan mano ki barson se ruk si gai hai..

Apne aap ko kitna jhanjhodta hoon,
apne aap ko kitna bayaan sa jkarta hoon ..

Ab  wo jo  gaye hai…. Saayad hi mood ke dekhenge..

खेल खेल में वक़्त बीत गया.. अब घड़ियाँ मानो की बरसों से रुक सी गई है..
अपने आप को कितना झंझोड़ता हूँ..
अपने आप को कितना बयान सा करता हूँ..

अब,  वो जो गए हैं.... सायद ही मूड के  देखेंगे..
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...