Monday, February 27, 2012

पता.. (pata - address)


दोस्तों से पूछता हूँ रकीबों का पता
रकीबों से पूछता हूँ दोस्तों का पता


Doston se puchta hoon raqeebon ka pata…
Raqeebon se puchta hoon doston ka pata…



अपने ख्याल से पूछता हूँ खुदका पता..
खुद से पूछता हूँ अपने पन का पता..


Apne khayal se puchta hoon khudka pata…
Khud se puchta hoon apne pan ka pata…
इंसान से पूछता हूँ इंसान का पता..
खुदा से पूछता हूँ अपने रेह बर  का पता..


Insaan se puchta hoon insaan ka pata..
Khuda se puchta hoon apne raah bar  ka pata..

अमीरों से पूछता हूँ अमीरी का पता..
गरीबों से पूछता हूँ गरीबी का पता..


हैवानियत से पूछता हूँ इंसानियत का पता..
इंसानियत से पूछता हूँ दौलत का पता..


Amiro se puchta hoon amiri ka pata
Garibo se puchta hoon garibi ka pata.
Haiwaniyat se puchta hoon insaaniyat ka pata..
Insaaniyat se puchta hoon daulat ka pata..
शराब से पूछता हूँ मैय खाने का पता
मैय्खाने से पूछता हूँ पैमाने का पता


भरी महफ़िल में पूछता हूँ तन्हाई का पता..
तन्हाई से पूछता हूँ मेरे यार का पता..


Sharab se puchta hoon maiy khane ka pata..
Maiy khane se puchta hoon paimane ka pata..
Bhari mehfil me puchta hoontanhai ka pata..
Tanhai se puchta hoon mere yaar ka pata..

कहीं कोई जवाब मिल जाए
अपनी सोच से पूछता हूँ...
इस सोच का पता..


Kahin koi jawab mil jaayee..
Apni soch se puchta hoon…
Is soch ka pata…
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...